पार्टी में अनुशासन को मिले प्राथमिकता = पूर्व नेता प्रतिपक्ष

पार्टी में अनुशासन को मिले प्राथमिकता = पूर्व नेता प्रतिपक्ष
सीधी। देश की मौजूदा परिस्थितियों में कांग्रेस पार्टी का सक्रिय मजबूत और संगठित होना देश हित केमें जरूरी है | जनता भी इस बात को जानती है | यही कारण है कि कई राज्यों में कांग्रेस की या कांग्रेस समर्थित सरकार है | कांग्रेसजन सिर्फ इस बात को ध्यान में रखें कि हम वह पार्टी हैं जिसने अंग्रेजों की गुलामी से इस देश को और यहाँ की जनता को मुक्ति दिलाई | जब तक कांग्रेस रही देश एक और अखंड रहा | हर वर्ग का सम्मान, हर धर्म को आजादी और गरीब की चिंता | आज जो देश हमारे सामने खड़ा है वह कांग्रेस की रीतियों और नीतियों का ही परिणाम है |
ऐसी कांग्रेस को हर हाल में और अधिक मजबूत बनाने उसका जनाधार बढाने के लिए यह जरूरी है कि जो लोग हर परिस्थितियों और विपरीत माहौल में कांग्रेस का झंडा उठाकर चलते रहे उनका सम्मान हो | अवसरवाद जिसका बड़ा खामियाजा कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में भुगता उसे कभी पनपने न दें और पनपे तो कांग्रेस पार्टी में उनकी दोबारा कोई जगह न हो | हमारे पूज्य पिता दाऊ श्री अर्जुनसिंह जी कहते थे कि “आजमाये हुए को दोबारा आजमाया नहीं जाता |”
दूसरी बात कांग्रेस में अनुशासन और सख्त हो और साथ ही जवाबदेही भी तय हो | इस पर सक्रियता से विचार हो | कांग्रेस के हर कार्यकर्ता से जीवंत संवाद हर स्तर पर हो | कांग्रेस की सहयोगी संस्थाओं , सेवा दल, महिला और युवा विंग को सक्रिय बनाकर जमीनी स्तर पर उनकी पैठ हो ऐसी योजनायें बनें | यह काम हर उस कांग्रेस जन का है जो सर्वोच्य पदों पर हो या जमीनी स्तर पर काम कर रहा हो |
जय हिन्द – जय कांग्रेस

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close