M.S.W. कोर्स बंद करने के विरोध में अभाविप ने शहडोल कलेक्टर को सौपां ज्ञापन

एम. एस. डब्ल्यू. कोर्स बंद करने के विरोध में अभाविप ने शहडोल कलेक्टर को सौपां ज्ञापन
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् शहडोल नगर इकाई द्वारा कलेक्टर को ज्ञापन सौपा जिसमे नगर मंत्री शहडोल सौरभ द्विवेदी ने बताया कि
शहडोल में स्थित शासकीय कन्या महाविद्यालय में विगत 10 वर्षो से एम. एस. डब्ल्यू. पाठ्यक्रम संचालित किया जा रहा था। किन्तु सत्र 2020-21 में अकस्मात अकारण प्राचार्य ऊषा नीलम द्वारा यह कोर्स बंद कर दी गई है। जिससे छात्राओं को विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।         UGC की गाइडलाइन व मध्यप्रदेश शासन उच्च शिक्षा विभाग के नियमानुसार जब तक स्नातकोत्तर में 10 से कम प्रवेश न हो तब तक पाठ्यक्रम बंद नहीं किया जा सकता है। किंतु सत्र 2019-20 में कई छात्राओं ने प्रवेश लिया था।प्राचार्य से कारण पूछने पर उन्होंने बताया कि महाविद्यालय में प्रधापकों कई कमी है जबकि विगत वर्ष ही महाविद्यालय में 20 सहायक प्राध्यापकों की नियुक्ति हुई है। जो दर्शाती है कि प्राचार्य ने छात्रों के बीच में झूठ बोलकर भ्रम फैलाने का प्रयास किया है।        जबकि MSW कोर्स छात्राओं बहनों को विभिन्न स्तरों एवं क्षेत्रों में रोजगार के अवसर प्रदान करता है। तथा ग्रामीण अंचल की जनजातीय छात्राएं बाहर जाकर अध्ययन नहीं कर सकती हैं।        इसी विषय को संज्ञान में लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने शासकीय कन्या महाविद्यालय में प्राचार्य से कारण एवं प्रश्न पूछे व ज्ञापन दिया।        किन्तु महाविद्यालय की प्राचार्या ऊषा नीलम ने 2 दिनों का समय लेकर जवाब देने की बात कही। लेकिन अभी तक कोई निष्कर्ष नहीं निकला इसलिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् ने शहडोल कलेक्टर को ज्ञापन कर MSW कोर्स फिर से शुरू करने की बात कही! ज्ञापन देते समय अरुणेन्द्र पाण्डेय,डॉक्टर सिंह मार्को, सौरभ द्विवेदी ,आयुष गुप्ता, शिवम वर्मा, रिषी गुप्ता, आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close